Wednesday, January 19, 2011

तुम क्यूँ न हुए मेरे ........

तुम बिन जीना मुहाल,
तुम बिन मरना भी मुश्किल.
आँखों की उदासी सब कह दे,
जो न कह पाया ये दिल.
दिल ने तो सब कह डाला था,
पर तुम ही समझ नहीं पाए.
वो लफ्ज़ नहीं तुम सुन पाए,
जो लफ्ज़ जुबां तक न आए.
क्या करूँ शिकायत अब तुमसे,
जब फर्क नहीं पड़ने वाला.
कोरी पुस्तक के लिक्खे को,
है कौन यहाँ पढने वाला.
भीगी आँखें जो पढ़ न सका,
वो कहा सुना क्या समझेगा.
बस अपने मन की कह देगा,
बस अपने मन की कर लेगा.
कुछ नहीं पूछना है तुमसे ,
उपकार बहुत मुझ पर तेरे,
बस इतना मुझको बतला दो....
तुम क्यूँ न हुए मेरे...
तुम क्यूँ न हुए मेरे .........

V.B. Series.

4 comments:

  1. वाह... इतना खूबसूरत लिख दिया इस प्रेम को...
    बहुत खूब...

    ReplyDelete
  2. Magar kaash wo is prem ko samajh pata.

    ReplyDelete
  3. प्यार को सुन्दर ढंगसे उजागर किया है आप ने| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. Pooja ji aur Patali ji ko hardik dhanyawad.

    ReplyDelete